संवेग क्या है? (What is Momentum in Hindi) | Samveg kya hai Hindi Mein?

आज इस पोस्ट में हम बताएंगे की संवेग क्या है? (What is Momentum in Hindi). संवेग संरक्षण सिद्धान्त (Law of conservation of momentum in hindi) क्या है, संवेग कितने प्रकार के होते हैं आदि। हम इस पोस्ट में “संवेग (Momentum)” को पूरे आसान शब्दों में समझाने वाले हैं। तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

संवेग (Momentum) एक भौतिक शब्द है जो किसी वस्तु की गति की मात्रा को संदर्भित करता है। यह आमतौर पर खेलों में इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। जैसे एक टीम जिसमें समान्य वेग है वह आगे बढ़ रही है तो सामान्य प्रयास के साथ उसे रोका जा सकता है, जबकि एक टीम जिसके पास बहुत अधिक वेग है वह वास्तव में आगे बढ़ रही है और उसे रोकना मुश्किल होगा। तो आइए अब विस्तार से जानते हैं की संवेग क्या है? (What is Momentum in Hindi).

संवेग क्या है

संवेग क्या है? (What is Momentum in Hindi)

किसी कण के द्रव्यमान (Mass) और वेग (Velocity) के गुणनफल को संवेग कहा जाता है। इसे “P” द्वारा सूचित किया जाता है। संवेग एक सदिश राशि है। इसमें परिमाण और दिशा दोनों होते हैं। क्योंकि आइजैक न्यूटन के गति के दूसरे नियम में कहा गया है कि गति के परिवर्तन की समय की दर कण पर कार्य करने वाले बल के बराबर है। किसी वस्तु के संवेग की मात्रा दो चरों पर निर्भर करती है: वस्तु का द्रव्यमान (Mass) और उसकी वेग (Velocity). संवेग द्रव्यमान और वेग दोनों के समानुपाती होता है, जहाँ द्रव्यमान में दो या तीन गुना वृद्धि (स्थिर वेग के साथ) संवेग की मात्रा को दो या तीन गुना बढ़ा देती है, इसी तरह वेग में दो या तीन गुना वृद्धि (स्थिर द्रव्यमान के साथ) वस्तु के संवेग की मात्रा में दो या तीन गुना वृद्धि की ओर ले जाएगा। आइए इसे अब एक उदाहरण के साथ समझते हैं।

मान लीजिए की आपने एक कांच के दीवार पर एक 100g का एक पत्थर फेंकते हैं और उसी वेग से 1Kg का एक पत्थर फेंकते हैं, तो 100g की अपेक्षा 1Kg वाले पत्थर से कांच के टूटने की अधिक संभावना है। दूसरी ओर यदि आप उसी 100g के पत्थर को 10 गुना वेग से फेंकते हैं तो भी कांच के टूटने की उतनी ही संभावना है। तो आप सोचें की इन दोनों के बीच कोई तो राशि है जो द्रव्यमान और वेग दोनों पर निर्भर कर रहा है, तो वह राशि संवेग कहलाता है।

इस अवधारणा को व्यक्त करने वाले समीकरण को इस प्रकार लिखा जा सकता है, 

संवेग (V) = द्रव्यमान(M) * वेग(V)

जहां,

  • P = Momentum (वस्तु का संवेग)
  • M = Mass (वस्तु का द्रव्यमान)
  • V = Velocity (वस्तु का वेग)

संवेग का मात्रक (SI Unit) क्या है? (What is the SI Unit of Momentum)

संवेग के मापने का SI Unit ‘किलोग्राम मीटर प्रति सेकंड (kg⋅m/s)‘ है। इसका वीमा MLT−1 होता है। यदि इसके अन्य मात्रकों की बात की जाय तो CGS पद्धति में इसे ‘ग्राम सेमी. प्रति सेकंड’ या ‘डाइन-सेकण्ड’ तथा MKS पद्धति में  ‘किलोग्राम मीटर प्रति सेकंड (kg⋅m/s)‘ या ‘डाइन-सेकण्ड’ होता है।

संवेग संरक्षण का नियम क्या है? (What is Law of conservation of momentum in Hindi)

संवेग के संरक्षण का नियम: कई परस्पर क्रिया करने वाले कणों से बने सिस्टम के लिए, यदि सिस्टम बाहरी बल के अधीन नहीं हो या किसी यांत्रिक प्रक्रिया में बाहरी बल हमेशा शून्य होता है, या उनपर कोई बाहरी बल कार्य न करे तो सिस्टम का कुल संवेग संरक्षित होता है। इसी को संवेग संरक्षण का नियम कहा जाता है।

जब परिणामी बाह्य बल शून्य नहीं होगा, तो वस्तु का संवेग निश्चित रूप से बदल जाएगा, और जब वस्तु पर परिणामी बाह्य बल शून्य होगा, तो वस्तु एक समान रैखिक गति में गति करेगी या स्थिर अवस्था में होगी, इसलिए गति निश्चित रूप से नहीं बदलेगी।

सिस्टम में प्रत्येक कण की परस्पर क्रिया में लगने वाला बल आंतरिक बल होता है। आंतरिक बल केवल सिस्टम में अलग-अलग कणों के संवेग को बदल सकता है। उदाहरण के लिए दो वस्तुओं के बीच अधिकांश टकरावों में, उनमें से एक धीमा हो जाता है और गति खो देता है जबकि दूसरी वस्तु तेज हो जाती है और संवेग प्राप्त कर लेती है, यदि पहली वस्तु 75 इकाई संवेग खो देती है, तो दूसरी वस्तु 75 इकाई संवेग प्राप्त करती है, हालांकि, कुल संवेग दो वस्तुएं टक्कर से पहले समान होती हैं और उतनी ही टक्कर के बाद होती हैं, जिसमें सिस्टम की कुल संवेग (दो वस्तुओं का सेट) संरक्षित होती है। यह संवेग संरक्षण का सबसे बेहतर उदाहरण है। इसे हम निम्नलिखित सूत्र से समझ सकते हैं।

माना की दोनों वस्तुओं के टकराने से पहले उनका वेग V1 तथा v1 है। तथा टकराने के बाद उनका वेग V2 तथा v2 है तो,

mv1 + MV1 = mv2 + MV2

यहां m तथा M दोनों वस्तुओं के वजन को सुचित करते हैं।

संवेग कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Momentum in Hindi)

संवेग दो प्रकार के होते हैं,

  1. कोणीय संवेग (Angular Momentum)
  2. रेखीय संवेग (Linear Momentum)

कोणीय संवेग (Angular Momentum)

कोणीय संवेग (Angular Momentum) किसी पिंड के द्रव्यमान को उसके कोणीय वेग से गुणा करके प्राप्त की जाती है। इसका अर्थ है कि एक वस्तु में दो प्रकार के कोणीय संवेग हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक ग्रहीय पिंड जैसे कि पृथ्वी का पहला संवेग होता है, जिसकी गणना सूर्य के सापेक्ष उसकी गति के परिणाम के आधार पर की जाती है, और फिर एक अतिरिक्त संवेग, जो इसकी अपनी धुरी पर घूमने की गति पर आधारित होता है।

रेखीय संवेग (Linear Momentum)

रेखीय संवेग, जिसे केवल संवेग भी कहा जाता है, किसी वस्तु के द्रव्यमान और वेग का ही गुणनफल होता है। यह द्रव्यमान तथा वेग दोनों के समानुपाती होता है। उदाहरण के लिए मान लीजिए आप एक जगह खड़े हैं और आपको एक बच्चे ने टक्कर मारा। इससे हो सकता है की आप थोड़ा विचलित हो या आप उसी स्थान पर खड़े रह जाएं। यहीं पर यदि आपको कोई ट्रक टक्कर मारता तो हो सकता है आप बहुत तेजी से बहुत दूर जाकर गिरते। इसका कारण यह है की ट्रक का द्रव्यमान अधिक था तो अधिक संवेग लगा और अधिक संवेग की वजह से आप दूर जाकर गिरते।

संवेग से जुड़े अन्य सवाल [FAQs]

संवेग क्या है विस्तार से जानें

अन्तिम शब्द,

आज इस पोस्ट में मैंने आपको विस्तार से बताया की संवेग क्या है (What is Momentum in Hindi). आशा करता हूँ आपके लिए यह जानकारी हेल्पफुल होगा. यदि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगा हो तो इसे अन्य लोगों के साथ भी जरुर शेयर कीजिये. और यदि आप इस पोस्ट से जुदा कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो हमें कमेंट करके बता सकते हैं.

Share on:

Leave a Comment