E-rupi kya hai? | जानें इ-रूपी क्या है और यह कैसे काम करता है?

E-rupi kya hai: क्या आप जानना चाहते हैं की इ-रूपी क्या है? 2 अगस्त 2021 को भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश में ई रूपी (E-Rupi) लॉन्च किया है। बहुत से लोगों को यह पता नहीं चल पा रहा है की E-rupi क्या है और यह कैसे काम करता है। तो इस पोस्ट में हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं की E-Rupi क्या है (E-Rupi kya hai) और यह कैसे काम करता है

आपको यह तो पता होगा ही की जब भी सरकार देश की जनता को कुछ देना चाहती है तो वह कई चरणों में पूरा किया जाता है। और कई बार ऐसा होता है की वह लाभ जनता को मिल भी नहीं पाता। इसके साथ ही अगर लाभ मिलता भी है तो समुचित लाभ नहीं मिल पाता। दूसरी ओर यदि जनता को किसी काम के लिए सरकार कुछ राशि दे रही है तो इसका इस्तेमाल दुसरे कामों में कर लिया जाता था। यहाँ पर “E-Rupi” का इस्तेमाल करके Leak Proof Services प्रदान की जा सकती है.

इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अगस्त को ई-रूपी प्लेटफॉर्म लॉन्च किया। धोखाधड़ी को कम करने के लिए यह एक बड़ा फैसला है। प्रधानमंत्री की ई रूपी परियोजना का मुख्य उद्देश्य लाभार्थियों को लीक प्रूफ सेवाएं प्रदान करना है। E Rupi एक नया Payment Platform है जिससे Payment में चोरी नहीं की जा सकती है। यदि आपको सरकार द्वारा कोई amount किसी विशेष काम के लिए दिया जा रहा है तो आप उस Amount का इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ उसी काम के लिए कर पाएंगे। तो आइए अब E-Rupi क्या है और कैसे काम करता है इसके बारे में जानते हैं।

E-Rupi क्या है E-RUPI कैसे काम करता है _E- Rupi kya hai

E-Rupi kya hai? | ई रूपी क्या है?

E-Rupi एक नया Payment Platform है जिसे National Payments Corporation of India (NPCI) द्वारा लॉन्च किया गया है। ई-रूपी एक कैशलैस, वाउचर बेस्ड, कांटेक्टलेस पेमेंट मेथड है जिसके मदद से यूजर बिना किसी Card, Cheque, Internet Connection के भुगतान कर पाएंगे। यह Purpose Specific Digital Voucher के रूप में काम करेगा, यानी यह जिस जिस काम के लिए दिया जायेगा, इससे सिर्फ वही काम हो सकता है।

उदाहरण के लिए, यदि आपने Phonepe, या कोई भी UPI आधारित App का इस्तेमाल किया होगा, तो वहां आपको तरह तरह के Voucher तथा Promo Code दिए जाते हैं, वह Promo Code या Voucher सिर्फ उसी जगह पर इस्तेमाल किया जहां इस्तेमाल करने के लिए दिया गया हो। ठीक उसी प्रकार E-Rupi भी एक QR Code Based या Voucher Based Payment Method है जिसे Purpose Specific Payment Method भी कहा जा सकता है।

आज से पहले आपने सुना होगा की भारत में Cryptocurrency के जैसा ही एक Currency आने वाला है, यदि आप E-Rupi को एक करेंसी समझ रहे हैं तो आप गलत हैं, ई रूपी मात्र एक Payment System है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 2 अगस्त को लॉन्च किया गया है। अभी तक आपने यह जाना की इ-रूपी क्या है? (E-Rupi kya hai), आइये अब जानते हैं की E-Rupi kaise kaam karta hai?

कैसे काम करेगा ई-रूपी?

ई-रूपी (E-Rupi) मोबाइल फोन के माध्यम से Purpose Specific Payment Method के रूप में काम करेगा। इस Method से किसी भी व्यक्ति के पास कोई भी सुविधा पहुंचाई जा सकती है। Smartphone में QR Code Based Payment किया जा सकता है, तथा जिसके पास Smartphone नहीं है, उन्हें SMS के माध्यम से भी Voucher प्राप्त हो सकता है। इस QR Code या Voucher की मदद से Payment की जा सकेगी। इसे भुगतान करने का एक Cashless Method भी कहा जा सकता है।

ई-रूपी को National Payments Corporation of India (NPCI) और Department of Financial Services, Union Health Ministry और National Health Authority ने आपस में मिलकर बनाया है। National Health Authority (NHA) का दावा है, “ई-रूपी एक बहुत ही सरल और सुरक्षित माध्यम है, Privacy को ध्यान में रखते हुए।” e-rupee को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, HDFC bank, एक्सिस बैंक और पंजाब नेशनल बैंक से जोड़ा गया है। धीरे धीरे यह अन्य बैंकों के साथ भी जोड़ा जाएगा।

ई-रूपी से लोगों को कैसे होगा फायदा?

प्रधान मंत्री कार्यालय का कहना है कि e-rupee का इस्तेमाल विभिन्न सरकारी परियोजनाओं के लिए किया जाएगा। इससे धन की सुरक्षा और बढ़ेगी। मातृ एवं बाल कल्याण परियोजना TB Eradication Project में दवाओं और पौष्टिक भोजन के प्रावधान में मदद करेगी। आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना कम आय वाले लोगों की मदद कर सकती है। डिजिटल वाउचर का इस्तेमाल Private Sector में भी किया जा सकता है।

एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 85 प्रतिशत भारतीय ग्रामीण मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं। 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 26 मिलियन मोबाइल फोन उपयोगकर्ता ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं, जबकि 228 मिलियन शहरी क्षेत्रों में रहते हैं। उम्मीद है कि 2023 तक सभी को ई-रूपी की जानकारी हो जाएगी। ई-रूपी एक्सचेंज के लिए सिर्फ मोबाइल नंबर की जरूरत होती है। इसके लिए अलग से आधार नंबर या बैंक खाता विवरण की आवश्यकता नहीं है।

E-Rupi की कौन कौन सी विशेषता है?

  • E Rupi एक One Time Payment System है जो बिल्कुल गिफ्ट कार्ड की तरह काम करती है।
  • आप खरीदारी करने या पैसे भेजने के लिए कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के बिना Voucher से पेमेंट कर सकते हैं।
  • ERUPI का उपयोग केवल विशिष्ट उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है जो SMS या Quick Response (QR) code के माध्यम से काम करता है।
  • ERUPI सुविधाएं का इस्तेमाल करके आप भारत में कहीं भी तुरंत contactless और hassle free भुगतान कर सकते हैं।
  • पैसा एक डिजिटल वाउचर के माध्यम से User के मोबाइल पर भेजा जाएगा जिसका इस्तेमाल केवल वहीं किया जा सकता है जिस उद्देश्य के लिए वह मिला हो।

ERUPI system के क्या लाभ हैं?

न केवल private organization बल्कि आम लोग भी बिना स्मार्टफोन के eRUPI प्लेटफॉर्म का उपयोग कर सकते हैं। साधारण फोन वाले User भी सरकारी योजनाओं के लिए सुरक्षित रूप से eRUPI System का लाभ उठा सकते हैं । eRUPI प्लेटफॉर्म के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

1. सरकारी योजनाएं और सब्सिडी

भारत सरकार ने कई अन्य महिला और बाल कल्याण योजनाओं सहित, आयुष्मान भारत, सुमंगला योजना, नागरिकों के लिए कई लाभ योजनाएं शुरू की हैं। eRUPI सिस्टम न केवल महिलाओं और बच्चों के लिए बल्कि किसानों के लिए भी मददगार है। यह प्लेटफॉर्म सब्सिडी प्राप्त करने का एक सुरक्षित तरीका है।

2. Private sector में eRUPI के लाभ

प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी eRUPI से लाभ उठा सकते हैं। वे इस Payment System का इस्तेमाल Treatment आदि में कर सकते हैं। जब भी कर्मचारी के द्वारा Voucher का इस्तेमाल किया जाएगा, इसे जारी करनेवाले इसे Track करके पता लगा सकते हैं की इस Voucher का इस्तेमाल हुआ है या नहीं।

3. eRUPI एक Work Specific Payment Method है

eRUPI वाउचर Specific लाभार्थी के बीच काम करेगा। उदाहरण के लिए, यदि आपको medical bills के लिए एक eRUPI वाउचर प्राप्त होता है, तो आप इसका उपयोग केवल medical bills का भुगतान करने के लिए कर सकते हैं, खरीदारी के लिए नहीं। वाउचर NPCI द्वारा जारी QR code से मेल खाने के बाद ही काम कर सकता है।

4. easy monitoring

E-Rupi System के साथ, Private और Public Sector ट्रैक कर सकते हैं कि कर्मचारी अपने Voucher का उपयोग कैसे करते हैं। आम लोगों को ही नहीं सरकारी कर्मचारियों को भी सरकारी धन का दुरुपयोग करने से प्रतिबंधित किया जाएगा। उदाहरण के लिए यदि सरकार अपने कर्मचारियों को Travel Fees देती है तो वह E-Rupi के माध्यम से मिलेगा ताकि उसका इस्तेमाल केवल Travel के लिए हो.

5. रजिस्टर करने की जरूरत नहीं

E-Rupi System का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि आपको सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए पंजीकरण या केवाईसी प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ेगा। वाउचर को रिडीम करने के लिए, आपको बस इसे संबंधित Service Provider के पास ले जाना होगा। इसके बाद Service Provider इसे अपने क्यूआर कोड से मिलाता है; अगर यह Valid होता है, तो आपको तुरंत Service मिल जाएगी।

E-Rupi के नुकसान क्या हैं?

अभी तक हमने E-Rupi ke Labh के बारे में बात किया, अब आइये इसके कौन कौन से नुक्सान हैं. भले ही NPCI ने E-Rupi को अत्यधिक Advance और Secure बना दिया है, लेकिन इसमें भी कुछ कमियां है। E-Rupi System से कुछ Users को नुकसान हो सकता है.

1. बैंकों की सीमित संख्या

E-Rupi System भारत के 11 बैंकों से जुड़ी है, जिसका अर्थ है कि अन्य क्षेत्रीय बैंकों को तब तक इंतजार करना होगा जब तक कि यह देश भर में सफल न हो जाए। कई अस्पतालों और चिकित्सा संस्थानों को एक ही समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

2. हो सकता है कि User के पास अभी भी मोबाइल फ़ोन न हों

कई सरकारी योजनाएं वंचित और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए हैं। उनमें से अधिकांश के पास मोबाइल फोन नहीं है। इसका मतलब है कि वे ई-वाउचर को रिडीम नहीं कर पाएंगे क्योंकि इसे मर्चेंट या सर्विस प्रोवाइडर की ओर से क्यूआर कोड के साथ पेयर करना होता है।

3. eRUPI Voucher की Validity

बशर्ते कि eRUPI एक Prepaid Service है, यदि कोई उपयोगकर्ता इसे किसी विशिष्ट अवधि के भीतर रिडीम नहीं करता है, तो eVoucher Expire हो जाएगा। User को eRUPI की समस्याओं का सामना करना पड़ेगा क्योंकि वे नहीं जानते कि इसे फिर से कैसे Activate किया जाए। Service Provider उस Voucher का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. यदि User किसी Service Provider के पास नहीं जाता है तब यह बेकार हो जाएगा।

4. कोई भी व्यक्ति जिसके पास User का फ़ोन है, वह eRUPI का उपयोग कर सकता है

चूंकि वाउचर को इस्तेमाल के लिए User को अपने बैंक खाते को लिंक करने या कहीं और पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं है, सिस्टम पूरी तरह से मोबाइल फोन के माध्यम से काम करता है। सरकार के पास अभी भी यह जांचने का कोई प्रावधान नहीं है कि पंजीकृत मोबाइल नंबर वाला User के पास ही वह मोबाइल है या नहीं। इस मामले में, उपभोक्ता का मोबाइल रखने वाला कोई भी व्यक्ति E-Voucher का इस्तेमाल करने के लिए Service Provider के पास जा सकता है।

E-Rupi से जुड़े अन्य सवाल

E-Rupi kya hai? [Video]

ये भी पढ़ें:

अन्तिम शब्द,

आज इस पोस्ट में हमने बताया की इ-रूपी क्या है? (E-Rupi kya hai) और यह कैसे काम करता है? आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा. यदि आपको इस पोस्ट से मदद मिली हो तो इसे अन्य लोगों के साथ भी जरुर शेयर करें. यदि आप इस पोस्ट (E-Rupi kya hai) से जुड़ा कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो हमें कमेंट करके बता सकते हैं.

Share on:

Leave a Comment